बीकानेर

बीकानेर में शराब तस्करों के खिलाफ पुलिस मुस्तैद, आबकारी विभाग नाकाम !

बीकानेर। शराब तस्करों के खिलाफ मुहिम के तहत बीकानेर जिला पुलिस लगातार बड़ी कार्यवाहियां कर तस्करी की शराब पकड़ रही है। पिछले तीन साल के अंतराल में बीकानेर तस्करी की शराब से भरे ट्रक,टैंकर और अन्य वाहन पकड़ कर पच्चीस पचास करोड़ से ज्यादा की अवैध शराब जब्त कर चुकी है। अब चुनावी साल में शराब तस्करी की बढती आंशका को देखते हुए पुलिस सतकर्ता बरतनी शुरू कर दी है।

लेकिन विडम्बना है कि शराब तस्करी और शराब के अवैध कारोबार पर कार्यवाही के लिये जिम्मेदार आबकारी विभाग की फौज अपनी जिम्मेदारी निभाने में नाकाम बनी हुई है। हालांकि जग जाहिर है कि बीकानेर जिला शराब तस्करों को बड़ा गढ है। पंजाब,हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के तस्करी बीकानेर रूट से शराब तस्करी करते है,इनके खिलाफ पुलिस लगातार सक्रियता दिखा रही है लेकिन आबकारी विभाग शराब तस्करों के खिलाफ प्रभावी कार्यवाही में फिसड्डी साबित हो रहा है।

अवैध शराब के कारोबार गढ़ 

ऐसे में लगता है कि आबकारी विभाग की जिम्मेदारी शराब ठेकों की लॉटरी निकालने और शराब बिक्री का लक्ष्य पूरा करने तक ही सिमित होकर रह गई। जबकि हकीकत है यह है कि बीकानेर में अवैध शराब का कारोबार आबकारी अफसरों की मोटी कमाई का जरिया बन गया है।

इसके अलावा जिलेभर में अंग्रेजी देशी शराब ठेकों पर देर रात तक बिकने वाली अवैध शराब के चलन ने भी यहां आबकारी अफसरों की ऊपरी कमाई के चार चांद लगा दिये है। जिन्हे पुख्ता तौर पर जानकारी है कि बीकानेर में शहर से लेकर ग्रामीण अंचलो तक अंग्रेजी और देशी शराब के ठेके रातभर खुले रहते है,ठेका संचालक खुलेआम ओवररेट वसूलते है। इतना ही नहीं आबकारी अधिकारियों की शह पर शहर में जगह-जगह पर देशी शराब के मयखाने कायम हो गये है।

जगह -2 खुली है देसी शराब की अवैध ब्रांचे 

ऐसे में अब अनुज्ञाधारी एक दुकान की दस दुकान कर बेखौफ लोगों को शराब पिला रहे हैं। हालात यह है कि कहीं पर चौराहों पर तो कहीं मुख्य मार्गों पर देसी शराब के अवैध ठेके खोल लोगों को जमकर शराब पिलाई जा रही है। आबकारी विभाग इन अनुज्ञाधारियों के खिलाफ कार्रवाई की जगह आंखें मूंद कर बैठा है। बताया जाता है कि देसी शराब की दुकानों के नवीनीकरण के लिए भी आबकारी अधिकारियों ने इन्हें ब्रांच चलाने की खुली छूट दे रखी है।

देर रात तक हो रही शराब बिक्री का चलन बदस्तूर जारी

शहर में संचालित सरकारी शराब की दुकानों पर देर रात तक शराब की बिक्री चल रही है। इसके आस-पास शराबियों का जमघट लगा रहता है। आबकारी व पुलिस महकमे की शह के चलते इन दुकानदारों के खिलाफ आमजन की शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं हो रही है। शहरभर में शराब की दुकानें देर रात तक खुली देखी जा सकती है।

विभागीय महकमों की मेहरबानी के चलते संचालक शटर खुले रख बेखौफ शराब की बिक्री करते देखे जा सकते है। स्थानीय लोगों की ओर से कई बार पुलिस व आबकारी विभाग को अवगत करवाया गया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

ऐसे में पुलिस की कार्य शैली पर ही सवाल खड़े हो रहे हैं। वहीं देर रात तक दुकानें खुली रख शराब की बिक्री संचालकों के लिए मुनाफे का सौदा साबित हो रहा है। संचालक नियत समय के बाद तय दरों से अधिक वसूली कर बेखौफ संचालन कर रहे हैं।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker