बीकानेरबीकानेर संभागश्रीडूंगरगढ़

बीकानेर में शहीद स्मारक पर स्थापित होगा फाइटर जेट, इतिहास में पहली बार होगा ऐसा

बीकानेर. श्रीडूंगरगढ़। शहीदों की चितांओं पर लगेंगे हर वर्ष मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशा होगा…। एक कविता की यह लाइनें साकार बीकानेर के कैप्टन चन्द्र चौधरी शहीद स्मारक को देखने पर साकार होगी। इस स्मारक पर फाइटर एयरक्राफ्ट (लड़ाकू विमान) स्थापित करने की स्वीकृति जारी की गई है। यह देश का पहला शहीद स्मारक होगा जिस पर फाइटर एयरक्राफ्ट देखने को मिलेगा। इसके लिए शहीद परिवार गत 12 साल से प्रयासरत था और शहीद परिवार को मिलने वाली पेट्रोल पम्प और कृषि भूमि को भी लेने से मना कर दिया था।

इतिहास में पहली बार होगा ऐसा 

श्रीडूंगरगढ़ तहसील के बिग्गा बास रामसरा गांव के शहीद कैप्टन चन्द्र चौधरी 9  सितम्बर 2002 को जम्मू-कश्मीर के नौसेरा सेक्टर में शहीद हुए थे। उनके पिता कन्हैयालाल सिहाग ने बताया कि साल 2006 से वह शहीद स्मारक पर एयरक्राफ्ट लगवाने के लिए प्रयासरत थे। विंग कमांडर एयरफोर्स एकेडमी डूंडीगल हैदराबाद ने स्वीकृति जारी कर उन्हें पत्र भेजा है। देश में किसी भी शहीद के स्मारक पर लगाने के लिए ट्रॉफी के रूप में टैंक और लड़ाकू विमान नहीं मिले है।

ससे पहले वर्ष 2008 में राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल्ल कलाम ने शहीद के पैतृक गांव में शहीद के सम्मान में लड़ाकू विजयन्त टैंक स्थापित करवाया था। साल 2006 से लेकर अब तक बीस सांसद रक्षा मंत्रालय और केन्द्र सरकार को एयर क्राफ़्ट स्थापित कराने के लिए पत्र भेजकर और व्यक्तिगत रूप से मिलकर मांग कर चुके है। शहीद के पिता ने बताया कि शहीद परिवार को राज्य सरकार से मिलने वाली कृषि भूमि और केन्द्र से आवंटित होने वाला पेट्रोल पम्प भी नहीं लिया था। इसके बदल उन्हें शहीद के स्मारक पर स्थापित करने के लिए लड़ाकू विमान आवंटित करने की मांग की थी।

यही असली सम्मान

शहीद के पिता कन्हैयालाल सियाग ने पत्रिका से बातचीत में कहा कि शहीद के परिवार को सरकारी मदद दी जाती है। परन्तु उसकी शहादत का असली सम्मान यही है कि उसे चिरस्थाई बनाने के लिए स्मारक स्थलों को विकसित किया जाए। इसी के लिए वह लगातार प्रयासरत है। फाइटर एयरक्राफ्ट की स्वीकृति जारी करने पर उन्होंने केन्द्र एवं राज्य सरकार का भी आभार व्यक्त किया है। शहीद स्मारक स्थल पर विमान स्थापित होने से राजस्थान के युवाओं में सेना में जाने की प्रेरणा मिलेगी और पर्यटन में महत्व बढ़ेगा।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker