बीकानेर

बीकानेर: जबरन गुप्तांग काटकर युवक को बना डाला किन्नर, तनाव में युवक ने खाया ज़हर

बीकानेर। भीनासर इलाके से जहर खाकर मंगलवार शाम पीबीएम अस्पताल में पहुंचे युवक ने सनसनीखेज खुलासा किया है। युवक का आरोप है कि करीब एक साल पहले उसका गुप्तांग काटकर जबरन किन्नर बना दिया गया। जिससे तनाव में रहने लगा और जहरीला पदार्थ खा लिया। युवक के इस तरह के खुलासे के बाद किन्नर के हाव-भाव वाले कुछ और युवक भी पीबीएम अस्पताल पहुंच गए और उन्होंने भी एेसी ही घटना का शिकार हुए होने के आरोप लगा दिए।

 

बेहोश कर बना देते है किन्नर 

पीडि़त युवकों ने खुलासा किया कि बीकानेर में एक गिरोह सक्रिय है। जो नाचने-गाने के नाम पर किशोरों को बरगलाकर नजदीकी बढ़ाते है और फिर मौका पाकर उन्हें बेहोश कर गुप्तांग काट देते है। दो थानों की पुलिस पहुंची मामले की गंभीरता को देखते हुए सूचना पाते ही नयाशहर और गंगाशहर पुलिस अस्पताल पहुंच गई। अस्पताल में जहर खाकर भर्ती युवक नत्थूसर बास मालियों का मोहल्ला निवासी कार्तिक उर्फ राखी पुत्र ओमप्राकश सांखला से पुलिस ने जानकारी लेने का प्रयास किया। उसके साथी सुनील, रिषभ रामावत उर्फ जीया ने बताया कि बड़ा बाजार और फड़ बाजार की दो जनों ने कार्तिक गुप्तांग काट दिया।

पीडि़त युवक भीनासर में किराए के मकान में रहता है। बयान होने पर पता चलेगा पीबीएम अस्पताल में जहर खाकर भर्ती हुए युवक कार्तिक उर्फ राखी के मामले की पड़ताल करने गए थे। युवक की हालत गंभीर होने से वह पूरी तरह घटनाक्रम की जानकारी नहीं दे पाया। साथियों ने जरूर कुछ आरोप लगाए है। पीडि़त युवक के बयान लेने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।

– सुभाष बिजारणिया, सीआई गंगाशहर

किशोरों को झांसे में लेकर नकली किन्नर बनाने वाला गिरोह सक्रिय, कानों में झुमके, मेहंदी रचे हाथ, कोई सलवार सूट तो कोई राजपूती ड्रेस पहने, अंगुलियों के लड़कियों की तरह बढ़ाए नाखून, होठ पर लिपिस्टक और बोलने के हाव-भाव भी निराला। एेसे एक दर्जन से अधिक युवक मंगलवार शाम पीबीएम अस्पताल के मेडिसिन आपातकालीन कक्ष के बाहर जुटे। इनमें से चार युवकों ने दावा किया कि उनके गुप्तांग को काटकर नपुंसक बनाया गया। साथ ही किसी को राखी तो किसी को बसंती जैसे नाम दे दिए।

किन्नरों  जैसे दिखने वाले इन युवकों ने आरोप लगाया कि..

वह भी इसी गिरोह के झांसे में फंसे। पहले जान-पहचान बढ़ाई और फिर नशा खिलाकर किसी दिन गुप्तांग कांट दिया। आपातकालीन में भर्ती युवक कार्तिक भी एेसे ही गिरोह का शिकार बने चार जनों में से एक है। कार्तिक का कहना है कि वह कहीं का नहीं रहा। घर-परिवार छूट गया। कार्तिक से बना राखी कार्तिक सांखला तीन साल पहले गिरोह के दो जनों के संपर्क में आया। जो किन्नर जैसे दिखते थे। वह उनके साथ कार्यक्रमों में नाचने-गाने जाने लगा। बदले में उसे कुछ ईनाम भी दिया जाता।

करीब एक साल पहले उसका गुप्तांग काट कर उसे गिरोह ने अपनी मंडली में शामिल कर लिया। कार्तिक अपने मां-बाप का इकलौता बेटा है। उसकी तीन बहन हैं। पहले शौक, अब मजबूरी रिषभ रामावत से जिया बने युवक ने भी आपबीती कुछ एेसी ही सुनाई। उसने बताया कि पहले शौक से इनके साथ घूमता रहता था। कार्यक्रमों में नाचने ले जाया करते थे।

कुछ समय पहले उसका गुप्तांग हटवा दिया। जब इसका पता चला तो विरोध करने पर जान से मारने की धमकी देकर चुप करवा दिया। मेरी तो नयाशहर थाने में गुमशुदगी भी दर्ज है। हम परिवार के लायक नहीं रहे इसलिए वापस घर जा नहीं सकते। अब इनके साथ रहना मजबूरी है।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker