जायका बीकानेरबीकानेरबीकानेर संभाग

देश भर में धूम मचा रहा है ‘ बीकानेरी घेवर – फीणी ‘ – स्वाद बीकानेर का !  

देश भर में धूम मचा रहा है ‘ बीकानेरी घेवर – फीणी ‘

स्वाद बीकानेर का !  

 

बीकानेर :   सर्दी का सीज़न चालू होते ही बाज़ारों में मिठाइयों की मांग काफी बढ़ जाती है। इन दिनों बाजारों में गर्म खाद्य पदार्थों की बहार है इस मौसम में मैदा और घी के मिश्रण से बने घेवरों का भी खास महत्व है। इन दिनों इस शहर के विभिन्न गली-मौहल्लों, यहाँ मिठाई की दुकाने तरह तरह के स्वादिष्ट घेवर की मिठाई की खुशबू से महकने लगे है। दुकानो पर घेवर सजाने लगे है बाज़ारों घेवर की बिक्री शुरू हो गयी है, सर्दियों में घेवर की मिठाई जी उत्तर भारत में सामान्यत सावन में बनाने वाली घेवर की मिठाई बीकानेर तथा आस पास के क्षेत्रो में ख़ास तौर पर सर्दियों में ही बनाई जाती है।

 स्वाद के शौकीनों का शहर है बीकानेर 

घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार 
घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार

 त्यौहारों पर मुँह मीठा कराने की परम्परा है कायम

घेवर की तरह की किस्मे, मलाई घेवर, मावा घेवर, पनीर घेवर, केसरमिश्रित घेवर, आम तौर पर थाली की आकार में मिलाने वाले घेवर के साथ साथ कटोरी के आकारके घेवर यहाँ आपको खूब मिल जाएंगे। इस मौसम मे बिकने वाले घेवर को यहाँ ख़ास तौर पर रिश्तेदारो, परिचितों को भेजे जाने की परंपरा रही है यानी मिल बांट कर खाने की भारतीय परंपरा रही है। जैसे -जैसे मकर संक्रांति नजदीक आ रही है घेवरों की बिक्री में भी तेजी आ रही है। शहर में स्थाई दुकानों के साथ ही बड़ी संख्या में अस्थाई मिठाई की दुकानों पर भी घेवर मिल रहे हैं।

 

बीकानेर बीके स्कूल के दही बड़ों का नाम सुनते ही, आता है अच्छे अच्छों के मुँह में पानी!

घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार 
घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार

 

घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार

जब आप बाजार निकलोगे तो आपको जगह – जगह पर आप घेवर – फीणी गोंदपाक, गाजर हलवा से सजी दिख जायेगी। ये दुकाने रबड़ी घेवर, सादे घेवर व लिलीपुट (कटोरी) घेवरों से मिठाइयों की दुकानें महक रही हैं। घेवर का सीजन मकर सक्रांति तक चलेगा। पनीर घेवर भी कहते हैं  360 रुपए प्रति किलो बिक रहे हैं। इसके अलावा लिलीपुट (कटोरी) घेवर 40 रुपए प्रति नग मिल रहा है।

 

घेवर की खुशबु से महक उठे है बाजार 
मलाई घेवर  

आसान नहीं था हल्दीराम भुजियावाला से हल्दीराम फ़ूड चैन तक का सफर

मलमास  के साथ शादी विवाह में परोसे जाते है घेवर

यह केशर-पिस्ता युक्त रबड़ी से तैयार होता है। साथ ही देशी घी से बने फीके घेवर 500 रुपए प्रति किलो बिक रहे हैं। वहीं वनस्पत्ति घी से निर्मित रबड़ी घेवर 130 रुपए प्रति किलो, मीठा सादा घेवर 110 रुपए प्रति किलो मिल रहे हैं। यह दरें स्थाई दुकानों की है। वहीं अस्थाई दुकानों पर दरें थोड़ी कम हैं। यह दुकानें मलमास में ही लगती हैं। इसके अलावा विवाह समारोह में भी घेवर परोसे जाते हैं। देशी घी, मैदा, चीनी के मिश्रण के बाद तैयार घेवर का स्वाद लजीज होता है।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker