अजब गजबबीकानेर

“बीकानेर के लड़के पर आया, फ्रांस की लड़की का दिल ” दोनो ने रचाई शादी !

“बीकानेर के लड़के पर आया, फ्रांस की गौरी का दिल ” दोनो ने रचाई शादी !

भारत की सभ्यता और संस्कृति ने फ्रांस में रहने वाली एक लड़की को इतना प्रभावित किया कि उसने बीकानेर मूल के एक लड़के से शादी करने की इच्छा अपने घरवालों से जाहिर कर डाली। फिर क्या था, लड़की के पापा और मम्मी बीकानेर के पलाना गांव पहुंचे, जहां लड़के के परिवार रहता था। लड़की के माता-पिता परिवार व गांव वालों से मिले तो वे भी उनसे खासे प्रभावित हुए, बस रिश्ता भी पक्का कर दिया।
 

रीति- रिवाज से दोनों ने शादी की

मंगलवार रात बीकानेर में पलाना गांव के अमित चौधरी और फ्रांस की लड़की अनाइस ने लालगढ़ पैलेस में सात फेरे लिए. राजस्थानी परिधान में पूरे रीति- रिवाज से इन दोनों ने शादी की और हर रस्म को पूरा किया.राजस्थानी परिधान में पूरे रीति- रिवाज से इन दोनों ने शादी की और हर रस्म को पूरा किया

विदेशी दुल्हन को देखने पहुंची महिलाएं 

पलाना गांव में मेहंदी रात को दुल्हन को देखने के लिए गांव की महिलाओं का जमावड़ा लगा रहा । भाषा ना समझने पाने के बाद भी दुल्हन इशारों से बातें समझने व समझाने का प्रयास कर रही थी। पुरे गांव में इस अजब-गजब शादी लेकर काफी उत्साह का महौल बना हुआ है। फ्रांस की अनाइसा ने बताया की उसे भारत आकर ऐसा लग रहा है जैसे उसका जन्म यहीं हुआ है।

वो सात दिनों से यहाँ है उसे काफी अच्छा लग रहा है । अनाइसा ने कहा शादी के बाद भी उनका भारत आना जाना जारी रहेगा। अऩाइस ने बताया की उसे और उसके परिवार को भारत और भारत से जुड़ी संस्कृति से काफी लगाव है| अनाइस के रिश्ते दार होटल में ठहर सकते थे मगर उसे गांव के जीवन को देखना था इसलिए वो गांव में रूके ताकि भारत के ग्रामीण जीवन को करीब से जान सके ।

फ्रांस में डिजानर हैं अनाइस

पलाना गांव के अमित चौधरी पिछले दस साल से फ्रांस में इंजीनियर का कार्य कर रहे हैं। वहीं दुसरी और अनाइस फ्रांस की एक डिजाइनर हैं। अमित ने बताया दोनों की मुलाकात भी फ्रांस में हुई थी। उसे भारत की संस्कृति ने काफी प्रभावित किया था इसलिए वो भारत भम्रण करना चाहती है। जब पहली बार अनाइस भारत आय़ी तो उसे यहाँ की संस्कृति से काफी जुड़ाव महसूस हुआ। अनाइस भारत की सभ्यता और संस्कृति को करीब से जानने के लिए हिंदी भाषा भी सीख रही है ताकि वो और ज्यादा समझ सके । अनाइस ने की दो पहले भी उसके माता – पिता बीकानेर आ चुके है उन्हे बीकानेर इतना पंसद आया की वो आज तक भुला नही पाये है।

अमित के पिता भी विदेश में रह चुके है

उधर अमित के पिता भी बाईस सालों तक साउथ अफ्रीका में बतौर माइनिंग इंजीनियर के पद पर रहे। उन्होंने इस दौरान अपने बच्चों की शिक्षा-दिशा पर ध्यान देना नहीं छोड़ा। बेटे व बेटियों की की पढ़ाई ब्रिटेन में ही करवाई। अमित ने बताया कि उनके पिता की इच्छा थी कि वे चाहे कहीं भी रहें, लेकिन अपने गांव और देश को नहीं भूलें। उनके पिता की करीब एक वर्ष पूर्व मृत्यु हो चुकी है।

बीकानेर प्राइड़

 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker