देशनई दिल्ली

‘मदद’ ऐप के जरिए रफ़्तार से दूर होंगी रेल यात्रियों की शिकायतें

'मदद' ऐप के जरिए रफ़्तार से दूर होंगी रेल यात्रियों की शिकायतें

नई दिल्ली. अगर आप रेलवे से संबंधित कोई शिकायत दर्ज कराना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास ट्विटर, फेसबुक, हेल्पलाइन या शिकायत रजिस्टर आदि की सुविधा है लेकिन अब रेलवे इससे आगे एक कदम बढ़ा रहा है। रेलवे इस महीने के आखिरी में मदद के नाम से एक मोबाइल एप्लीकेशन लाने जा रहा है जिसके जरिए यात्री खाने की गुणवत्ता या गंदे शौचालय या किसी अन्य मुद्दे पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगे। इस एप के जरिए वे आपात सेवाओं के लिए भी आग्रह कर सकेंगे।


सीधे कर सकते है शिकायत

एप के जरिए संबंधित विभागों के संबंधित अधिकारियों तक सीधे शिकायत पहुंच जाएंगी और ऑनलाइन कार्रवाई हो सकेगी। इस तरह से शिकायतों का पंजीकरण और निवारण की पूरी प्रक्रिया तेजी से हो सकेगी. यात्री अपनी शिकायतों की यथा स्थिति और मामले में की गई कोई भी कार्रवाई की जानकारी भी हासिल कर सकेंगे। प्रस्तावित एप से रेलवे के सभी यात्रियों की शिकायतें और निवारण तंत्र एक मंच पर आ जाएंगे।



एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया , अब तक हमारे पास 14 माध्यम है जिसके जरिए यात्री अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं. सबका जवाब देने का अपना समय है और साथ ही जवाब का मानक भी अलग है. कभी कोई सक्रिय रहता है, कभी नहीं रहता है। हम एक पारदर्शी, मानकीकृत शिकायत निवारण प्रक्रिया चाहते हैं। यह एप इस महीना शुरू हो सकता है। यात्री अपनी शिकायतें पीएनआर टाइप कर दर्ज कर सकते हैं।



रेल्वे करेगा हर शिकायत का निस्तरण

पंजीकरण के समय एसएमएस के जरिए उन्हें एक शिकायत आईडी मिलेगा। इसके बाद संबंधित विभाग द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में व्यक्तिगत एसएमएस के जरिए जानकारी दी जाएगी। अधिकारी ने बताया कि इस एप में महीने में मिलने वाली कुल शिकायतों और भारतीय रेलवे द्वारा उनके निवारण के बारे में भी जानकारी मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया इस व्यवस्था के शुरू होने का मतलब यह नहीं है कि हम अन्य मंचों पर शिकायतों पर कार्रवाई नहीं करेंगे। हम इस एकीकृत व्यवस्था का उपयोग करना चाहते हैं।  

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker