बीकानेर

बीकानेर : आकर्षण का केन्द्र बनी रियासतकालीन सिक्को की प्रदर्शनी

नगर स्थापना दिवस के अवसर पर पांच दिवसीय महोत्सव की शुरूआत शनिवार को अनूठे एवं दुर्लभ सिक्कों की तीन दिवसीय प्रदर्शनी से हुई

बीकानेर। नगर स्थापना दिवस के अवसर पर पांच दिवसीय महोत्सव की शुरूआत शनिवार को अनूठे एवं दुर्लभ सिक्कों की तीन दिवसीय प्रदर्शनी से हुई। जिला प्रशासन, नगर विकास न्यास तथा राव बीकाजी संस्थान के संयुक्त तत्वावधान् में सुदर्शना कला दीर्घा में आयोजित प्रदर्शनी का शुभारम्भ जिला कलक्टर अनिल गुप्ता, नगर विकास न्यास अध्यक्ष महावीर रांका, न्यास सचिव आर. के. जायसवाल, सहीराम दुसाद ने किया।



मुगलकालीन, रियासतकालीन बने आकर्षण का केंद्र 

आकर्षण का केन्द्र बनी इस प्रदर्शनी में सेवानिवृत बैंक अधिकारी भारत भूषण गुप्ता के सिक्कों, नोट, डाक टिकटों, कोर्ट स्टाम्प आदि के संग्रह को अतिथियों ने अतुलनीय बताया। नगर विकास न्यास अध्यक्ष ने कहा कि इसमें मुगलकालीन, रियासतकालीन से लेकर वर्तमान में प्रदलित सिक्कों, नोट और डाक टिकटों का संकलन किया गया है। यह प्रदर्शनी युवाओं के लिए बेहद लाभदायक सिद्ध होगी। न्यास सचिव आर. के. जायसवाल ने कहा कि प्रदर्शनी में संकलित वस्तुओं को बेहतरीन तरीके से प्रस्तुत किया गया है। इससे आमजन भी इनके महत्त्व को समझ सकते हैं।


गणमान्य लोग रहे मौजूद 

प्रदर्शनी संयोजक अजीज भुट्टा ने स्वागत उद्बोधन दिया तथा प्रदर्शनी के बारे में बताया। कार्यक्रम का संचालन संजय पुरोहित ने किया। इस अवसर पर राव बीकाजी संस्थान के महामंत्री विद्यासागर आचार्य, कोषाध्यक्ष रामलाल सोलंकी, सचिव नरेन्द्र सिंह स्याणी, कमल रंगा, आनंद वी. आचार्य, आत्माराम भाटी, मोहम्मद इरशाद, बाबू लाल छंगाणी सहित अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद रहे। संकलनकर्ता भारत भूषण गुप्ता ने कहा कि वे गत 50 वर्षों से दुर्लभ सिक्कों, डाक टिकटों आदि का संकलन कर रहे हैं। अब तक शहर के लगभग प्रत्येक स्कूल में प्रदर्शनी लगा चुके हैं।



उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं कि बच्चे हमारे ऐतिहासिक संदर्भों के बारे में जानकारी प्राप्त करें। प्रदर्शनी में बीकानेर स्टेट के तात्कालिक महाराजा गजसिंह, रतनसिंह, सूरतसिंह, सरदारसिंह, डूंगरसिंह और गंगासिंह के काल के सिक्के, स्टाम्प पैपर एवं स्टाम्प फीस टिकट, रियासतकाल में कोर्ट द्वारा गवाह अथवा मुल्जिम को बुलाने के लिए ली जाने वाली फीस के तलबाना टिकट, अल्लाह जिलाई बाई, आचार्य तुलसी, इंद्रचंद शास्त्री, हरखचंद नाहटा, पन्नाला बारूपाल सहित बीकानेर की विभिन्न विभूतियों पर जारी डाक टिकट, जोधपुर, उदयपुर सहित विभिन्न रियासतों के कोर्ट स्टाम्प पैपर, सक्के आदि देखकर दर्शक अभिभूत हुए.


ब्रिटिश काल के सिक्के, डाक टिकट 

प्रदर्शनी में ब्रिटिश काल के सिक्के, स्वतंत्रता के पश्चात् तथा डेसीमल प्रणाली लागू होने से पहले के सिक्के, स्मारक सिक्के, 1957 से अब तक के हर सिकके, लगभग 40 देशों के सिक्के व नोट, स्वतंत्र भारत से पूर्व के नोट, अब तक के समस्त वित्त सचिवों के हस्ताक्षर के एक रुपये तथा रिजर्व बैंक के समस्त गवर्नर्स के 2 रुपये से 2 हजार तक के नोट, फैन्सी नोट, गांधी सीरिज, 786 सीरिज के नोट को भरपूर सराहना मिली। वहीं प्रदर्शनी में गुप्ता द्वारा ओलम्पिक, एशियाड़, पक्षियों, वन्य जीवों सहित विभिन्न थीम पर जारी डाक टिकट भी आमजन के अवलोकनार्थ रखे गए हैं।


इसी प्रकार प्रदर्शनी में स्वतंत्र भारत का पहला डाक टिकट, खादी पर बना विशेष डाक टिकट, नेहरू परिवार, बा-बापू, साहित्यकारों, वैज्ञानिकों, स्वंतत्रता सैनानियों, संगीतज्ञों पर जारी डाक टिकटों का अवलोकन भी आमजन द्वारा किया गया। वहीं अब तक जारी हर प्रकार के लिफाफे तथा पोस्ट कार्ड भी आकर्षण का केन्द्र रहे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें

 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker