बीकानेर

तबादले के बाद नए थाना अधिकारी आये पॉवर में, अब सट्टेबाज़ों की खैर नहीं

थानाधिकारी बदलते ही क्रिकेट सट्टे के अड्डे पर छापा, दो सटोरिए गिरफ्तार

बीकानेर। आईपीएल सीज़न के दौरान बीकानेर में सक्रिय सट्टेबाज़ों की अब खैर नहीं है, पुलिस की नाकामी ख़बरें  रोज़ अख़बारों में छपने के बाद से आखिरकर बड़े अधिकारीयों की चीर निंद्रा टूटी है, आपको बता दें आइपीएल शुरू होने से पहले पुलिस अधीक्षक सवाईसिंह गोदारा ने शहर के सभी थानाधिकारियों को मीटिंग में आइपीएल के दौरान सटोरियों पर नजर रखने और कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। साथ ही सटोरियों से मिलीभगत करने वाले पुलिस अधिकारियों और स्टाफ पर भी कार्रवाई की चेतावनी दी थी। मगर इसके बावजूद 19 दिन तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब दो दिन पहले थाना प्रभारी बदलने के साथ ही परिणाम सामने आने लगे है।

पुलिस महकमों में बदलाव के साथ ही सट्टेबाज़ी के खिलाफ कर्यवाही शुरू 

इस बार बीकानेर पुलिस अधीक्षक तुरंत हरकत आते हुए लंबे समय से जमे थानाधिकारियों का तबादला करके सट्टेबाज़ों के खिलाफ खुली जंग छेड़ दी है। पुलिस अधीक्षक की ओर से थानाधिकारी बदलते ही सटोरियों के अड्डों पर दबिश की कार्रवाई भी शुरू हो गई।  कर नयी टीम को विशेष निर्देश दिए है। गुरुवार को जेएनवीसी पुलिस ने उदासर गांव में एक मकान पर दबिश देकर क्रिकेट सट्टे के अड्डे का भंडाफोड़ किया। यहां से पुलिस ने सट्टे के साजो सामान के साथ दो सटोरियों को दबोचा।

आइपीएल के साथ ही क्रिकेट सट्टा जोर पकडऩे पर ‘ बीकानेर प्राइड – हिंदी समाचार ‘ ने सटोरियों के खिलाफ अभियान शुरू किया। इससे पुलिस पर कार्रवाई के लिए दबाव बना और थानाधिकारी बदले गए। जेएनवीसी पुलिस थाने के नवनियुक्त सीआई ने प्रभार संभालते ही सटोरियों को दबोचना शुरू कर दिया।

उदासर में चल रहा था सट्टा-कारोबार 

आपको बता दें पुलिस अधीक्षक ने दो दिन पहले ही कई थानाधिकारियों तबादला किया था। जेएनवीसी थाने के सीआई मनोज माचरा ने बताया कि मुखबिर से उदासर में क्रिकेट सट्टा करने की सूचना मिली। इस पर उपनिरीक्षक रामप्रताप, गुलाम नबी मय स्टाफ के उदासर सेठियों का मोहल्ला निवासी पवन पुत्र शुभकरण जैन के घर पर दबिश दी। यहां एक कमरे में पवन जैन और हनुमानहत्था निवासी संदीप पुत्र प्रेमरतन पारीक किंग्स इलेवन पंजाब व सनराइज हैदराबाद के बीच चल रहे मैच पर सट्टा कर रहा थे।

भागने की नाकाम कोशिश

पुलिस ने यहां से एक एलइडी, एक लैपटॉप, सात मोबाइल, दो कैलकुलेटर, चार्जर एवं सट्टे का हिसाब लिखा एक रजिस्टर बरामद किया है। जिसमें दस लाख रुपए का हिसाब लिखा मिला है। पुलिस टीम जब पवन जैन कर घर पहुंची तो दोनों आरोपितों ने भागने की कोशिश की लेकिन, पुलिस टीम के घेरा डाले होने के चलते सफल नहीं हुए। सीआई माचरा ने बताया कि क्रिकेट बुकियों के पास से मिले रजिस्टर में कोड नंबरों से हिसाब-किताब लिखा मिला है। पुलिस आरोपियों से मुख्य बुकी की धरपकड़ के प्रयास करेंगी।

 

 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker