जोधपुरराजस्थान

आसाराम को उम्रकैद की सजा का एलान, दोनों दोषियों को 20-20 साल की कैद

ताउम्र जेल में रहेगा आसाराम, किसी साधु-संत को मिली अब तक की सबसे कठोर सजा

जोधपुर. नाबालिग रेप केस मामले में जोधपुर की अदालत ने आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई है। आसाराम के दो अन्य साथियों को 20-20 साल की सजा हुई है। आसाराम को यह सजा 376-2F धारा के तहत सुनाई गई है। आसाराम के दो और सहयोगियों सेवादार शिल्पी और शरतचंद्र को 20-20 साल की सजा हुई। इन दोनों ने लड़की को आसाराम तक पहुंचाने में मदद की थी। वे गिरोह बना कर दुष्कर्म करने की धारा 376डी के तहत दोषी साबित हुए

गौरतलब है कि आसाराम के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया और केस राजस्थान पुलिस को ट्रांस्फर किया गया था। आसाराम के खिलाफ आईपीसी की धारा 342 (गलत तरीके से बंधक बनाना), 376 (बलात्कार), 506 (आपराधिक हथकंडे) के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया था। आसाराम के साधक उनके लिए कल से ही हवन पर बैठे थे। इस मामले में पीड़िता के पिता का कहना है दोषी आसाराम और आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले। 

यौन उत्पीड़न का था आरोप 

जोधपुर के फार्महाउस से शुरू हुआ था सिलसिला और यहीं के सेंट्रल जेल में आसाराम का चैप्‍टर हुआ क्‍लोज। पीड़िता के अनुसार, वर्ष 2013 के अगस्‍त माह में जोधपुर के एक फार्म हाउस में आसाराम ने इलाज के बहाने उसका यौन उत्पीड़न किया था। पीड़िता ने दिल्ली के कमलानगर थाने में 19 अगस्त 2013 को आसाराम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी और 31 अगस्‍त 2013 को मध्‍यप्रदेश के इंदौर से आसाराम को गिरफ्तार किया गया।

इस फैसले पर पूरे देश की निगाहें लगी हुई थीं। पीड़िता के पिता ने कहा- आसाराम दोषी करार दिए गए, हमें इंसाफ मिला है। इस लड़ाई में हमारा साथ देने वाले सभी लोगों को हम धन्यवाद करते हैं।

 

 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker