बीकानेरबीकानेर संभाग

नोखा सड़क हादसे में अब तक नो की मौत, 21 हुए घायल!

सोमलसर(नोखा) सड़क हादसे में अब तक 9 की मौत 21 घायल, वाहन चालक की लापरवाही बनी मौत की वजह!

नोखा (बीकानेर)  सोमलसर के पास कल हुए भीषण सड़क हादसे में अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है ।  21 जनो के घायल हो गये है। तहसील मुख्यालय  से  चार किमी दूर सुजानगढ़ मार्ग पर मंगलवार शाम लोक परिवहन सेवा की बस और पिकअप में जबरदस्त भिड़ंत हो गई। घायलों को बीकानेर के पीबीएम हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। माल दुलाई करने वाली पिकअप  गाड़ी में करीब 30 से अधिक लोग सवार थे। दोनों वाहनों में भिडंत के और वाहन में सवार लोगों  में चीख पुकार सी मच गयी।  हादसा इतना भयानक था की सवारियों के शव इधर उधर  सड़क पर बिखर गये। सड़क पर जगह – जगह  खून ही खून  बिखर गया। 

बस चालक पर लापरवाही से बस चलाने का मामला दर्ज 

मिली सुचना के आधार पर  पिकअप में सवार सांसी समाज के लोग अणखीसर गांव में अपने किसी रिश्तेदार के  मृत्यु भोज में शामिल हो लौट रहे थे। तभी नोखा से तीन-चार किमी पहले  सोमलसर के  पास सामने से रही लोक परिवहन सेवा की बस से पिक-अप की  भिड़ंत हो गई। धमाका इतना ज़ोरदार था की पिक-अप और बस के पर-खच्चे उड़ गये।  वहां से गुजर रहे लोगों ने रुककर घायलों को संभाला तथा अपने वाहनों से नोखा के अस्पताल पहुंचाया। जहां से उन्हें पीबीएम हॉस्पिटल रैफर कर दिया। सूचना मिलने के बाद नोखा सीओ बनवारी लाल, एसएचओ मनोज शर्मा मौके पर पहुंचे। बस चालक हादसे के बाद फरार हो गया। एसएचओ ने बताया कि छह घायलों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था। एक की पीबीएम में उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। बस चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शाम को जिला कलेक्टर और एसपी ने भी घटना स्थल का जायजा लिया।  

माल ढुलाई के वाहनों में अवैध रूप से सवारियां ढोते 

नोखासे चार किलोमीटर दूर सुजानगढ़ मार्ग पर लोक परिवहन सेवा की बस और पिकअप की भिड़ंत में नौ लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बस एक ट्रैक्टर को ओवरटेक कर रही थी कि सामने पिकअप गई। जाहिर है हादसे का कारण वाहन चालकों की लापरवाही रही है। बड़ा सवाल ये है कि ग्रामीण क्षेत्रों में पिकअप जैसी गाड़ियों में अवैध रूप से सवारियां ले जाई जाती है। और ये सब पुलिस के नाक नीचे होता है। पहले भी ऐसे कई बड़े हादसे हो चुके हैं। आरटीओ और पुलिस की जिम्मेवारी है ऐसे वाहनों की धरपकड़ कर कार्रवाई करे ताकि ऐसे हादसे ना हो। 

ये हैं मृतकों और घायलों के नाम 

मृतक: मांगीलाल(65) निवासी देसलसर, दानाराम (42) निवासी देशनोक, मुकेश (12), सुगनीदेवी (55), सीताराम (25), सुवरी (17) सभी निवासी नोखा, सुशीला (20) खरिया-बास लूणकरणसर, रावणाराम (75) मालाराम (35) की मौत हो गई। 

घायल: बुधराम(18), मनोज (13), नींबू उर्फ मंजू (3) , ओमप्रकाश (23), संतोष (40), पप्पूराम (35), देवीकिशन (16), मुरली (8), ईश्वरराम (40) सभी निवासी नोखा, डूंगरराम (26), सुशीला (20) नरसी (5) सभी निवासी लूणकरणसर, सांवरराम (28) निवासी देशनोक, पूर्णाराम (19) निवासी पांचू, रोशनी (1) निवासी मालासर, काली (25) सुमन (18) निवासी देशनोक, गीता (20), श्रवण (25) मालासर, सुमन (18) देशनोक और मोहनलाल (31) निवासी सांडवा को प्राथमिक उपचार के बाद नोखा से बीकानेर के पीबीएम हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। छह मृतकों के शव पोस्टमार्टम के परिजनों के सुपुर्द कर दिए। 

घायलों की कुशल क्षेम पूछने कई लोग पहुंचे

हादसे की सूचना पर घायलों की कुशल क्षेम नोखा अस्पताल में उपखंड अधिकारी कन्हैयालाल सोनगरा, कन्हैयालाल झंवर, नागरिक सेवा संस्थान के अध्यक्ष आसकरण भट्टड़, सुरेन्द्र भट्टड़, मगनाराम केड़ली, रामस्वरूप विश्नोई, पालिका उपाध्यक्ष निर्मल भूरा, सुरेश विश्नोई, नरेन्द्रसिंह राजपुरोहित, ओमसिंह राजपुरोहित, नरेन्द्र चौहान, देवकिशन चांडक, भंवरलाल ज्याणी आदि पहुंचे।

वहीँ बीकानेर के पीबीएम अस्पताल में ए.डी.एम प्रथम यशवंत भाकर, यूआईटी अध्यक्ष महावीर रांका, महापौर नारायण चौपड़ा, जिला प्रमुख सुशीला सींवर, यूथ कांग्रेस लोकसभा क्षेत्र अध्यक्ष बिशनाराम सियाग, समाजसेवी आदर्श शर्मा, रमेश व्यास आदि पहुंचे। राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष एवं नोखा विधायक रामेश्वर डूडी तथा पूर्व संसदीय सचिव कन्हैयालाल झंवर ने घटना के बाद अपनी संवेदनाएं व्यक्त की। पुलिस अधीक्षक सवाईसिंह गोदारा ने कहाँ बेहद दुखद घटना है हादसे के कारणों की जांच के आदेश दे दिए है और कहा की इस हादसे में जो भी जिम्मेदार है उनपे कड़ी कार्यवाही की जायेगी।  

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker