बीकानेरबीकानेर संभाग

बीकानेर : मौजूदा आरक्षण सिस्टम के विरोध में समता दिवस मनाया गया !

बीकानेर : (प्रेस रिलीज़) आज दिनांक 25 दिसम्बर तारीख को हर महीने की भांति इस महीने को भी बीकानेर के पब्लिक पार्क में शाम 3:30 बजे से आरक्षण के सिस्टम के विरोध में समता दिवस मनाया गया है। इस दिवस पर सभी समतावादियों ने भारत के सविंधान के समानता के अधिकार की सवैंधानिक हनन की व्याख्या की साथ ही बताया कि आरक्षण की व्यवस्था भारत के सविंधान का विरोध है। बाबा साहब अम्बेडकर सभी मानव जाति का समान रूप से विकास चाहते थे न कि किसी एक जाति या धर्म का उनकी मूल अवधारणा ही मानवतावादी थी।  

पिछले समता दिवस की तरह इस बार भी समतावाद के एजेंडे पर सभी सम्तावादियो ने अपने अपने विचार रखे जिसकी मूल अवधारणा यह थी की जिस व्यक्ति ने एक बार आरक्षण का लाभ ले लिया वह व्यक्ति भारत के सविंधान की मूल अवधारणा के अनुसार सामान्य वर्ग में माना जाये साथ ही उस व्यक्ति को सवेधानिक रूप से जाति का प्रमाण पत्र नहीं दिया जावे उसकी जगह किसी अन्य शोषित वंचित दलित गरीब को आरक्षण का लाभ मिले साथ ही आरक्षण की व्वयस्था से दलित और दलित के बीच गरीबी खाई बहुत तेजी से बढ़ी है आरक्षण की व्यस्था का लाभ बहुत कम लोगों को मिल रहा है इससे समाज देश मे वैमनस्य की भावना बढ़ रही है।  

आज देश को आरक्षण की व्वयस्था में सुधार करे साथ ही भारत मे सिस्टम को बदल कर असली लोकतंत्र असली असली समतावाद की स्थापना की जाए इसके लिए पूरे देश मे जन चेतना अभियान चलाया जावे  इसी अभियान के तहत हर महीने की 25 तारीख को विभिन्न संगठनों पार्टियों गैर सरकारी संगठनों की तरफ से आरक्षण विरोधी दिवस मनाया जा जा रहा है।  इस आरक्षण विरोध दिवस पर डॉ नन्दलाल सिंह, छात्र नेता रविशंकर, पवन सारस्वत, समता आंदोलन के महावीर शर्मा, मुकुंद व्यास व अभिनव राजस्थान के अंकुर शुक्ला, योगेश जोशी गोड सनाढय फाउंडेशन के अध्यक्ष अरविन्द गोड, ओ पी पारीक इत्यादि समतावादियों ने विचार व्यक्त किये साथ ही ये समता दिवस राजस्थान में कोटा अजमेर लूनकरणसर उदयपुर इत्यादि जिलो में मनाया गया इसकी भी जानकारी दी। 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker