बीकानेरबीकानेर संभाग

श्रीडूंगरगढ़ (बीकानेर) : गौवंश को ठंड व हादसों से बचाने के लिए शुरू की अनूठी पहल!  

श्रीडूंगरगढ़ इलाके के निराश्रित गौवंश को ठंड व हादसों से बचाने के लिए ‘आपणों गांव श्रीडूंगरगढ़ सेवा सेवा समिति ‘ ने शुरू की अनूठी पहल!

श्रीडूंगरगढ़ (बीकानेर) :  दिसंबर महीने की शुरुवात के साथ इलाके में ठंड ने जोर पकड़ लिया है। दिन के मुकाबले रात में सर्दी का प्रकोप अधिक रहता है। देर रात तक तापमान अपने न्यूनतम स्तर तक  पार कर जाता है। सर्दी के चलते इंसानों के साथ – साथ निराश्रित गौवंश का भी बेहद बुरा हाल हो रहा है। सर्दी व घने कोहरे के चलते आये दिन हादसे होते रहते  है। ज्यादातर हादसे सड़कों पर बैठे गौ-वंश के चलते होते है।  इन हादसों की वजह सड़कों पर बैठे गौ-वंश तो घायल हो ही  जाते है। साथ ही इनसे टकराने वाले वाहन चालक भी बड़े हादसों का शिकार हो जाते है। इसी के चलते रोज़ कई लोग घायल हो जाते या उनकी असमय मौत तक हो जाती है। इन गौ-वंश के सड़कों बैठने की मुख्य वजह रेतीली जमीन के बजाय लगातार वाहन के गुजरने से सड़कों की सतह अधिक गर्म होती है। जिससे उन्हें ठंड से  राहत मिलती है।

 

एक अनूठी पहल की शुरुवात

इसी के चलते फेसबुक पर चर्चित मंच आपणों गांव श्री डूंगरगढ़ सेवा सेवा समिति के जीव-दया प्रेमी कार्यकर्ताओं की और से एक अनूठी पहल की शुरुवात की गई  है। इलाके के सभी कमजोर गौवंश व छोटे छोटे बछड़ों को कम्बल या बोरी से ढकने का ज़िम्मा उठाया गया ताकि उन्हें ठंड व सड़क हादसों से बचाया जा सके। प्रयोगिक तौर पर सड़कों पर आवारा घूमने वाले गाय व बछड़ो पर कम्बल बांधे गए। हम मानवता के चलते अक्सर सड़कों पर सो रहे लोगों को कम्बल व गर्म कपड़े बांटते नज़र आते है। मगर इन निरीह गौवंश के बारे में कभी नहीं सोचते, ये एक नेक कोशिश है जिसकी जितनी तारीफ की जाये उतनी कम है। इलाके के वन्य जींवो के प्रति आपणों गांव श्री डूंगरगढ़ सेवा सेवा समिति  बेहद नेक सरहानीय कार्य कर रही है।

बीकानेर का असली गौरव है आपणों गांव श्री डूंगरगढ़ सेवा समिति Real Pride of Bikaner

सभी जीव दया प्रेमियों से की अपील

साथ ही आपणों गांव श्री डूंगरगढ़ सेवा सेवा समिति के कर्यकर्ताओं ने देश के सभी जीव प्रेमियों से ये अपील की है यदि आप के इलाके में भी खुले मे विचरण करने वाला कमज़ोर गौवंश है।   इसके लिए आपको  बस ज्यादा कुछ नही करना अपने घर में रखे पुराने कंबल बोरियां का इस्तेमाल कर इन निरीह गौवंश को ठंड  से बचाया जा सकता है।  आपकी एक नेक कोशिश से असंख्य कमजोर गौवंश को बीमारी व असमय मौत से बचाया जा सकता है। साथ ही वाहन चालकों से भी विनम्र अपील की है सर्दी एवं धुंध के मौसम में आप अपने वाहन धीमी गति, फोग लाईट इत्यादि के साथ चलाएँ।  आपकी ज़रा सी सावधानी से आप गौवंश की रक्षा के साथ हादसों से बचा जा सके।

 

 

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker