बीकानेर

बीकानेर रोड़वेज कर्मचारियों की हड़ताल बारहवें दिन भी जारी

बीकानेर। पखवाड़े भर से चल रही रोड़वेज कार्मिकों की हड़ताल के दौर में मौके की नजाकत भांपकर मोटी कमाई के लालच में लोक परिवहन सहित निजी बसों व अवैध वाहन चालकों ने सवारियों की जान जोखिम में डालना शुरू कर दिया है। हालात यह है कि बस मालिकों ने परमिट शर्तों का उल्लंघन करने के साथ-साथ बिना परमिट की बसों का संचालन भी शुरू कर दिया है। बसों में क्षमता से अधिक सवारियां भरना आम हो गया तो किराया भी बीस से तीस प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है।

वाहन संचालक पूरी तरह मनमानी पर उतर आए हैं। वहीं हड़ताली रोडवेज कर्मचारी प्रतिदिन बस स्टैंड पर आकर धरना प्रदर्शन कर वापस लौट जाते हैं। धरना स्थल पर ताश के पत्तों से समय बिताने के तजन भी कई कर्मचारी करते दिखते हैं। रोडवेज कर्मियों की हड़ताल के कुछ दिनों तक लोक परिवहन बस मालिकों ने बसों का संचालन नियमानुसार किया, लेकिन इसके लम्बा खिंचने पर वे मनमानी पर उतर आए। कई निजी बस मालिकों ने मोटी कमाई के लालच में लोक परिवहन बसों का परमिट शर्तों का उल्लंघन करना शुरू कर दिया।

बस संचालकों ने पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए टिकट पर बस नंबर, तारीख व समय डालना ही बंद कर दिया। वे अब बिना परमिट की बसों को भी कई रूट पर चलाने लगे हैं। ेनिजी बसों के अलावा बीकानेर जिला मुख्यालय से कोटा समेत कई मार्गों पर अब अवैध टैक्सी जीपों के फर्राटे भी बढ़ गए हैं। बस हो या जीप, सबमें क्षमता से अधिक सवारियां भरना आम हो गया। कस्बाई व ग्रामीण अंचल मे पहुंच रही कई टैक्सी जीपों में तो लोग पीछे लटकते नजर आते हैं। ग्रामीण रूटों की बसों में अंदर पैर रखने की जगह नहीं होती।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker